इन 34 चीजो के बिना अधूरी रह जाएगी आपकी करवा चौथ की पूजा

हर साल आने वाला करवा चौथ का पर्व इस साल 4 नवम्बर को मनाया जाने वाला है। यह पर्व एक नारी पर्व है और इस दिन सुहागिन नारी अपने पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखती है। आप जानते ही होंगे इस पर्व में दिनभर का उपवास किया जाता है और अन्न और जल दोनों का त्याग कर दिया जाता है। उसके बाद शाम को सुहागिनें करवा की कहानियां कहती-सुनती हैं और फिर गौरा से सुहाग लेकर, उगते चंद्रमा को अर्घ्य देकर अपने सुहाग की लंबी उम्र मांगती हैं। इस दिन महिलाएं पति का प्रेम भी मांगती है जो अम्र रहे। वैसे इस पूजा में जो सबसे अहम होता है वह होती है पूजन सामग्री। आज हम आपको बताने जा रहे हैं पूजा की सूची जो इस व्रत व पूजन में उपयोग होती हैं। आइए जानते हैं इस पूजा में उपयोग किये जाने वाले सामान की लिस्ट। वैसे यह कुल मिलाकर 34 चीजें होती है जो पूजा में जरुरी होती हैं।

करवा चौथ पूजन सामग्री की सूची-

1। चंदन
2। शहद
3। अगरबत्ती
4। पुष्प
5। कच्चा दूध
6। शकर
7। शुद्ध घी
8। दही
9। मिठाई
10। गंगाजल
11। कुंकुम
12। अक्षत (चावल)
13। सिंदूर
14। मेहंदी
15। महावर
16। कंघा
17। बिंदी
18। चुनरी
19। चूड़ी
20। बिछुआ
21। मिट्टी का टोंटीदार करवा व ढक्कन
22। दीपक
23। रुई
24। कपूर
25। गेहूं
26। शकर का बूरा
27। हल्दी
28। पानी का लोटा
29। गौरी बनाने के लिए पीली मिट्टी
30। लकड़ी का आसन
31। चलनी
32। आठ पूरियों की अठावरी
33। हलुआ
34। दक्षिणा के लिए पैसे ।

ध्यान रहे जब चंद्र को अर्घ्य दें तो यह मंत्र अवश्य कहे- 
करकं क्षीरसंपूर्णा तोयपूर्णमयापि वा। ददामि रत्नसंयुक्तं चिरंजीवतु मे पतिः॥
इति मन्त्रेण करकान्प्रदद्याद्विजसत्तमे। सुवासिनीभ्यो दद्याच्च आदद्यात्ताभ्य एववा।।
एवं व्रतंया कुरूते नारी सौभाग्य काम्यया। सौभाग्यं पुत्रपौत्रादि लभते सुस्थिरां श्रियम्।।

नवंबर माह में आएँगे ये व्रत और त्योहार, जानें धनतेरस से लेकर छठ तक के शुभ मुहूर्त
इस दिन है करवाचौथ, जानिए इसके अन्य नाम

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …