नवंबर माह में आएँगे ये व्रत और त्योहार, जानें धनतेरस से लेकर छठ तक के शुभ मुहूर्त

हिन्दू धर्म में कई त्यौहार मनाये जाते हैं जो अपनी-अपनी जगह पर अलग ही महत्व रखते हैं। ऐसे में नवम्बर महीने की शुरुआत होने वाली है और हम आपको बताने जा रहे हैं नवम्बर महीने के व्रत और त्यौहार की लिस्ट।

नवम्बर महीने के व्रत और त्यौहार की लिस्ट-

4 नवंबर बुधवार संकष्टी चतुर्थी, करवा चौथ
8  नवबंर रविवार अहोई अष्टमी
12 नवबंर गुरुवार गोवत्स द्वादशी
11 नवंबर बुधवार रमा एकादशी
13 नवंबर शुक्रवार मासिक शिवरात्रि , धनतेरस , प्रदोष व्रत (कृष्ण)
14 नवंबर शनिवार दिवाली , नरक चतुर्दशी
15 नवंबर रविवार गोवर्धन पूजा , कार्तिक अमावस्या
16 नवंबर सोमवार भाई दूज , वृश्चिक संक्रांति
20 नवंबर शुक्रवार छठ पूजा

धनतेरस 2020 तिथि और शुभ मुहूर्तः
धनतेरस तिथि – शुक्रवार, 13 नवंबर 2020

धनतेरस पूजन मुहूर्त – शाम 05:25 बजे से शाम 05:59 बजे तक।

प्रदोष काल – शाम 05:25 से रात 08:06 बजे तक।

वृषभ काल – शाम 05:33 से शाम 07:29 बजे तक।

त्रयोदशी तिथि प्रारंभ-12 नवंबर 2020 की रात 09:30 बजे से

दिवाली 2020 शुभ पूजन मुहूर्तः
लक्ष्मी पूजा मुहूर्त: 14 नवंबर की शाम 5 बजकर 28 मिनट से शाम 7 बजकर 24 मिनट तक

प्रदोष काल मुहूर्त: 14 नवंबर की शाम 5 बजकर 28 मिनट से रात 8 बजकर 07 मिनट तक

वृषभ काल मुहूर्त: 14 नवंबर की शाम 5 बजकर 28 मिनट से रात 7 बजकर 24 मिनट तक

गोवर्धन पूजा पर्व तिथि – रविवार, 15 नवंबर 2020

गोवर्धन पूजा सायं काल मुहूर्त – दोपहर बाद 15:17 बजे से सायं 17:24 बजे तक

प्रतिपदा तिथि प्रारंभ – 10:36 (15 नवंबर 2020) से

प्रतिपदा तिथि समाप्त – 07:05 बजे (16 नवंबर 2020) तक

भाई दूज तिथि – सोमवार, 16 नवंबर 2020

भाई दूज तिलक मुहूर्त – 13:10 से 15:17 बजे तक (16 नवंबर 2020)

द्वितीय तिथि प्रारंभ – 07:05 बजे से (16 नवंबर 2020)

द्वितीय तिथि समाप्त – 03:56 बजे तक (17 नवंबर 2020)

छठ पूजा के दिन सूर्योदय – 06 बजकर 48 मिनट तक

छठ पूजा के दिन सूर्यास्त – 17:26 तक

षष्ठी तिथि आरंभ – 21:58 (19 नवंबर 2020)

षष्ठी तिथि समाप्त – 21:29 (20 नवंबर 2020)

आइये जाने हनुमान जी के जीवन से जुड़े अनसुने रहस्य, जो आपको भी कर देंगे हैरान
इन 34 चीजो के बिना अधूरी रह जाएगी आपकी करवा चौथ की पूजा

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …