नर्मदा जयंती पर माँ नर्मदा की जरुर करें ये आरती

माघ महीने में शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को नर्मदा जयंती का पर्व मनाया जाता है। यह वह दिन है जिस दिन भक्त नर्मदा नदी की पूजा करते हैं। नर्मदा मैया सभी के जीवन में शांति और समृद्धि लाती है। आप सभी जानते ही होंगे मध्य प्रदेश में नर्मदा नदी का उद्गम स्थल अमरकंटक है जो सभी भक्तों के लिए एक लोकप्रिय स्थान है। आप यह भी जानते ही होंगे कि नर्मदा जयंती को पूरे मध्य प्रदेश में बेहद ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। ऐसे में आज नर्मदा जयंती से पहले हम आपको बताने जा रहे हैं नर्मदा माँ की आरती।

नर्मदा माँ की आरती-

ॐ जय जगदानन्दी, मैया जय आनंद कन्दी।
ब्रह्मा हरिहर शंकर, रेवा शिव हर‍ि शंकर रुद्रौ पालन्ती। ॐ जय जगदानन्दी (1)

देवी नारद सारद तुम वरदायक, अभिनव पदण्डी।
सुर नर मुनि जन सेवत, सुर नर मुनि।।।
शारद पदवाचन्ती। ॐ जय जगदानन्दी

देवी धूमक वाहन राजत, वीणा वाद्यन्ती।
झुमकत-झुमकत-झुमकत, झननन झमकत रमती राजन्ती। ॐ जय जगदानन्दी (2)

देवी बाजत ताल मृदंगा, सुर मण्डल रमती।  तोड़ीतान-तोड़ीतान-तोड़ीतान, तुरड़ड़ रमती सुरवन्ती। ॐ जय जगदानन्दी (3)

देवी सकल भुवन पर आप विराजत, निशदिन आनन्दी।
गावत गंगा शंकर, सेवत रेवा शंकर तुम भट मेटन्ती। ॐ जय जगदानन्दी (4)

मैयाजी को कंचन थार विराजत, अगर कपूर बाती।
अमर कंठ में विराजत घाटन घाट बिराजत, कोटि रतन ज्योति। ॐ जय जगदानन्दी (5)

मैयाजी की आरती निशदिन पढ़ गा‍वरि, हो रेवा जुग-जुग नरगावे भजत शिवानन्द स्वामी
जपत हर‍ि नंद स्वामी मनवांछित पावे। ॐ जय जगदानन्दी (6)

आज अष्टमी की तिथि है, जानिए पंचांग, शुभ मुहूर्त और राहु काल
उंगलियों में छुपे होते हैं कई रहस्य, ये उंगली देती है अशुभ संकेत

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …