अपने प्रतिद्वंद्वी से एक कदम रहें आगे, डटकर करें मुकाबला

आप किसी दौड़ स्पर्धा में भाग ले रहे हैं तो आपको उस दौड़ में जीत के लिए अपने प्रतिद्वंद्वी से मात्र एक कदम ही आगे होना होगा और जीत आपकी होगी. ऐसा नहीं होता कि आपको अपने साथी से मीलों आगे निकलना पड़ेगा. तो आप स्वयं विचार करिए कि आपको कितनी मेहनत करनी है. मात्र सामने वाले से एक कदम आगे रहना है.
अगर हम दूसरे क्षेत्रों की बात करें तो व्यापार में लगातार बदलाव होते रहते हैं. व्यापार लगातार सुधार की ओर अग्रसर होता है. इसलिए आपको भी अपने व्यापार में एक कदम आगे रहना चाहिए, तभी आप सफल हो सकते हैं. व्यापार में अपने उत्पाद को दूसरों से थोड़ा बेहतर बनाना होता है. व्यापार ही नहीं जीवन के सभी क्षेत्र में सफलता के लिए आपको आगे आ कर समाज को चौंकाना पड़ता है. मान लीजिए कि किसी आपको किसी विश्वविद्यालय के किसी विषय के स्वर्णपदक की चाहत है तो आपको मात्र दूसरे विद्यार्थियों से एक नंबर अधिक चाहिए. ये सही है कि प्रतिस्पर्धा में ऊपर से स्तर पर एक-एक कदम आगे बढ़ना बहुत मुश्किल होता है. जो व्यक्ति स्वयं सफल होता है उसने भी किसी दूसरे व्यक्ति से प्रतिस्पर्धा कर परास्त किया होता है उसे फिर से परास्त करने के लिए भी कठिन परिश्रम करना पड़ता है. विचार करें यह इतना भी कठिन नहीं है. आप अगर सच्ची मेहनत और लगन से कार्य करते हैं तो सफल हो सकते हैं. आपका आत्मविश्वास ब़ढ़ा होना चाहिए. आपको जीवन में सकारात्मक होना चाहिए कि दूसरा अगर कर सकता है तो हम भी कर सकते हैं. कम से कम व्यापार में तो यही कहा जाता है कि सफल व्यवसाय के बीच ही आप भी एक और व्यवसाय शुरू कर सफल हो सकते हैं. यही सफल व्यापारियों के बीच आपसी बातचीत होती है.
रावण की तीन इच्छाएं रह गई थी अधूरी, जानिए....
चाणक्य नीति: धन पर निर्भरता ठीक नहीं, बुद्धि से लें काम

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …