कोरोना काल में बीमारियों से मुक्ति के लिए माँ दुर्गा का पढ़े ये सिद्ध मंत्र

हिंदुओं के मुख्य त्योहारों की लिस्ट में एक नाम नवरात्रि का भी है जो इस साल 13 अप्रैल यानी कल से आरम्भ हो रही है। जी हाँ, कल से चैत्र नवरात्रि का आरम्भ हो रहा है। यह पर्व नौ दिवसीय है और इस पर्व में 9 रातों तक तीन देवियां- मां लक्ष्मी, मां सरस्वती और मां काली के नौ स्वरुपों की पूजा होती है। आप सभी को बता दें कि इन 9 दिनों में कई मन्त्रों के जाप किये जा सकते हैं जो व्यक्ति की परेशानियों को खत्म कर देते हैं। आज हम आपको उन्ही मन्त्रों के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपकी हर समस्या का समाधान बन सकते हैं।

मां दुर्गा के सिद्ध मंत्र-

शत्रु के विनाश के लिए –

रक्त बीज वधे देवि चण्ड मुण्ड विनाशिनि।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।।

सौभाग्य की प्राप्ति के लिए –

वन्दि ताङ्घ्रियुगे देवि सर्वसौभाग्य दायिनि।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।।

अपने कल्याण के लिए –

सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।

शरण्ये त्रयम्बके देवी नारायणी नमोस्तुते।।

समस्त बाधाओं से मुक्ति के लिए –

शुम्भस्यैव निशुम्भस्य धूम्राक्षस्य च मर्दिनि।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ।।

बीमारियों से मुक्ति के लिए –

देहि सौभाग्यमारोग्यं देहि मे परमं सुखम् ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ।।

जगत के कल्याण के लिए –

विधेहि देवि कल्याणं विधेहि परमां श्रियम् ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ।।

धन और विद्या प्राप्ति के लिए –

विद्यावन्तं यशस्वन्तं लक्ष्मीवन्तं जनं कुरु ।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ।।

25 तारीख़ से विवाह मुहूर्ताें की हो रही शुरुआत, इस दिन खत्म होगा खरमास
माथे की रेखाओं बताती हैं बहुत कुछ, जानें किस रेखा में छिपा क्या....

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …