जब भगवान राम के कहने पर लक्ष्मण ने रावण से लिया था इन 3 बातों का ज्ञान

 शिव का सबसे बड़ा ‘भक्त’ और ‘परम ज्ञानी’ था रावण। कहा जाता है कि उसके जैसा ज्ञानी आजतक पैदा नहीं हुआ है।रावण के पापों और उसके अधर्मी कामों ने उसे भले ही एक गलत इंसान बना दिया हो लेकिन रावण एक ऐसा शख्स था, जिसके ज्ञान के आगे देवता भी नतमस्तक हो जाते थे।
अपनी अधर्मी छवि के बावजूद रावण ने कई ऐसे उदाहरण पेश किए, जिससे पता चलता है कि वो सच में एक बहुत बड़ा ज्ञानी पुरूष था। ऐसे में रावण ने लक्ष्मण को भी तीन बातें बताई थी।

जब भगवान श्रीराम ने अपने बाणों से रावण के प्राण हर लिए तो उन्होंने खुद लक्ष्मण से कहा कि, अब मरणासन्न अवस्था में ऐसे में श्रीराम ने लक्ष्मण से कहा कि इस संसार से नीति, राजनीति और शक्ति का महान पंडित विदा ले रहा है, तुम उसके पास जाओ और उससे जीवन की कुछ ऐसी शिक्षा लो जो और कोई नहीं दे सकता। तब लक्ष्मण जाकर रावण के चरणों के पास खड़े हो जाते हैं और रावण उन्हें ये तीन बातें बताते है।

रावण ने लक्ष्मण को पहली बात बताई कि कभी भी शुभ कार्य में देरी नहीं करनी चाहिए और उसे टालना नहीं बल्कि जितनी जल्दी हो सके कर लेना चाहिए। वहीं अशुभ को जितना टाल सकते हो टाल देना चाहिए यानी शुभस्य शीघ्रम्। मैं श्रीराम को पहचान नहीं सका और उनकी शरण में आने में देरी कर दी, इसी कारण मेरी यह हालत हुई।

रावण ने जब श्रीराम को युद्ध के लिए ललकारा था तो उसे ज्ञान नहीं था कि, वो किस योद्धा को युद्ध की चुनौती दे रहा है और इसी बात से सबक लेकर रावण ने लक्ष्मण को दूसरे ज्ञान में कहा कि, अपने शत्रु को कभी अपने से छोटा नहीं समझना चाहिए, मैं यह भूल कर गया। मैंने न केवल हनुमान को छोटा समझा बल्कि मनुष्य को भी छोटा समझा। ‘मैंने जब ब्रह्माजी से अमरता का वरदान मांगा था तब मनुष्य और वानर के अतिरिक्त कोई मेरा वध न कर सके ऐसा कहा था क्योंकि मैं मनुष्य और वानर को तुच्छ समझता था, ये मेरी गलती थी।’

रावण ने लक्ष्मण को तीसरी और अंतिम बात ये बताई कि अपने जीवन का कोई राज हो, तो उसे किसी को भी नहीं बताना चाहिए। रावण ने कहा यहां भी मुझसे गलती हुई मैंने अपनी मृत्यु का राज अपने भाई विभीषण को बताया, जो आज मेरी मौत का कारण बन गया, ये मेरे जीवन की सबसे बड़ी गलती थी।

क्या आप जानते हैं भगवान राम भी अपने मुकुट में लगते थे मोर पंख
जानिए सबके प्रिय 'भगवान राम' के बारे में कुछ खास बातें 

Check Also

शनिदेव: भाग्यदेवता को यंत्र से करें खुश, शनि का यंत्र है अत्यंत फलदायी

शनिदेव के उपायों में तेल तिलहन का दान, रत्नों का धारण एवं मंत्र जाप प्रमुखता …