मूलांक बताता है – कैसे हैं आप, कैसा होगा भविष्य

1406632397-512अंकशास्त्र की ज्योतिष में खास जगह है। इसके माध्यम से ना सिर्फ अपने स्वभाव की विशेषताओं को जान सकते हैं बल्कि भविष्य का भी अंदाजा लगा सकते हैं। आइए आपके मूलांक से जानिए कैसे हैं आप-  

अंक 1
 
इस अंक के जातकों के कंधे चौड़े, सिर चौकोर व पंजे मजबूत होते हैं। इनका आकार चतुष्कोण होता है। इनमें स्फूर्ति व छल-बल होता है। इनकी नजर बहुत तेज होती है तथा आंखों ही आंखों में वे बहुत कुछ कह जाते हैं। वे आंखों के प्रभाव से अधिक काम लेते हैं। अग्नि तत्व का होने के कारण वे बेहद क्रोधी होते हैं और हर किसी पर रौब जमाना चाहते हैं। उत्तेजक स्वभाव व दबंग होने के कारण वे परिस्‍थिति को अपने अनुकूल बना लेते हैं। ये स्वभाव से भ्रमणशील होते हैं और घूमना-फिरना ज्यादा पसंद करते हैं। अंक 5 व 9 वालों से इनकी अधिक बनती है।
 
शुभ रंग- पीला, शुभ तिथि- 10 व 28।
अंक 2 
 
इस अंक के जातक दूसरों को अपनी ओर आसानी से आकर्षित करने की क्षमता रखते हैं। इनमें सेवा भाव अधिक होता है। इन्हें स्वादिष्ट भोजन पसंद होता है। वे अच्‍छा भोजन बनाते भी हैं। वे भावुक, चंचल व रसिक प्रवृत्ति के एवं गौर वर्ण होते हैं। चेहरा चंद्रमा के समान गोल व बदन सामान्य होता है। वे बनाव-सिंगार व सौंदर्य से लगाव रखते हैं।

छोटी-स‍ी बात भी इन्हें चुभ जाती है और वे बुरा मान जाते हैं। वे अत्यधिक सहनशील होते हैं। घोर कष्ट या पीड़ा के समय भी उफ तक नहीं करते। इनके जीवन का आरंभ संघर्षमय होता है, लेकिन जवानी में वे सभी सुख पा लेते हैं। अंक 4 या 7वालों से इनकी अच्छी बनती है।
 
शुभ रंग- समुद्री हरा, शुभ तिथि- 20 व 30।
 
 

अंक 3
 
इस अंक के जातक उत्साही व संघर्षशील होते हैं। इनके अंदर कुछ नया करने की भावना होती है। ये अच्‍छे डील-डौल, सुंदर नेत्र, चौड़े सीने वाले व बेहद आकर्षक होते हैं। ये शानदार तरीके से चलते हैं। अपनी कहने के बजाय चुप रहकर दूसरों की बात सुनते हैं। अपना लक्ष्य प्राप्त करने के लिए सदैव क्रियाशील रहते हैं।

खुद कठोर परिश्रम करते हैं और दूसरों से भी ऐसा ही चाहते हैं। समय के पाबंद होते हैं। तड़क-भड़क, साज-सज्जा, दिखावा, ढोंग इन्हें अच्छा नहीं लगता। इस राशि की स्त्रि‍यां भी श्रृंगार के प्रति अधिक अनुराग नहीं रखतीं। अंक 6 व 7 वालों से इनकी अधिक बनती है।
 

 
शुभ रंग- जामुनी, शुभ तिथि- 9 व 27।
अंक 4
 
इस अंक के जातक क्रांतिकारी विचारों के होते हैं। इनमें कुछ नया व अलग करने की भावना होती है। अपनी वाक् शक्ति से वे दूसरों को अपने वशीभूत करने की क्षमता रखते हैं। इनके शौक व रुचियां भी अन्य लोगों से हटकर होती हैं। ये कृशकाय, लेकिन आकर्षक व्यक्तित्व के होते हैं। दार्शनिक प्रवृत्ति के होते हैं और हमेशा ख्यालों में डूबे रहते हैं। स्वभाव से शक्की व वहमी होते हैं। हर किसी पर शक करते हैं।

धर्म, कर्म, भूत-प्रेत व गुप्त विद्याओं में इनकी काफी रुचि होती है। ये मित्र को भी शत्रु बना लेते हैं। क्लर्क, स्टेनो, लेखक, मैकेनिक, वैज्ञानिक, दार्शनिक, अध्यापक, रेलवे, हवाई अड्डे, खदान, तकनीकी कार्यों आदि में सफल रहते हैं। अंक 8 वालों की ओर वे जल्दी आकर्षित होते हैं, लेकिन अंक 2 व 7 वालों से इनकी अधिक बनती है।
 
शुभ रंग- पीला, शुभ तिथि- 10 व 19।
 

अंक 5
 
इस अंक के जातक स्पष्टवादी व महत्वाकांक्षी होते हैं। ये अपने विचार बहुत अच्‍छी तरह व्यक्त करते हैं। अपनी वाणी व तर्कों से वे दूसरों को अपने वश में कर लेते हैं। कार्यक्षेत्र में भी ये वाक् शक्ति व चातुर्य का प्रयोग करने से नहीं चूकते। इनका रंग साफ व व्यक्तित्व आकर्षक होता है। दांपत्य जीवन कलहपूर्ण होता है। संतान सुख उत्तम होता है।

ये शारीरिक की अपेक्षा मानसिक श्रम करना अधिक पसंद करते हैं। ये लेखक, इंजीनियरिंग, व्यापारी, प्रोफेसर, डॉक्टर, प्रॉपर्टी डीलर, समाचार-पत्र मालिक, संपादक, राजनेता, प्रकाशक आदि होते हैं। इन्हें गायन, वादन व लेखन का शौक होता है। बाजार में ये सफल रहते हैं और इनकी बहुत धाक होती है। अंक 1 व 7 वालों से इनकी अच्‍छी बनती है।
 
शुभ रंग- हरा, शुभ तिथि- 23 व 30।
 

अंक 6
 
इस अंक के जातकों की रुचि कला-संस्कृति में होती है। उनमें हमेशा कुछ नया करने की चाह होती है और वे परिश्रम करके सुख पाना चाहते हैं। यात्राएं, मेल-मिलाप बढ़ाना, अच्‍छा खान-पान, पहनावा इनका शौक होता है। फैशन, सिनेमा, होटल, राजनीति, कम्प्यूटर आदि से जुड़े कार्यों में इन्हें ‍अधिक सफलता मिलती है। ये न्याय व आदर्श को काफी महत्व देते हैं। ये शांत व मृदु स्वभाव के होते हैं।

ये कल्पनाशील तो होते हैं, लेकिन हवाई किले नहीं बनाते। समय के पाबंद होते हैं। इस अंक के स्त्री-पुरुष आदर्श पति-पत्नी होते हैं। व्यापार में सफल, निष्पक्ष व न्यायप्रिय होते हैं। अंक 3 व 1 वालों से इनकी अच्‍छी बनती है।
 शुभ रंग- गाजरी, शुभ तिथि- 6 व 23।
अंक 7
 
इस अंक के जातक विस्फोटक विचारों वाले होते हैं। वे समाज में परिवर्तन लाने की क्षमता वाले, कल्पनाशील व विचारों के धनी होते हैं। इनका रुझान धर्म-अध्यात्म की ओर होता है। इन्हें एकाकी जीवन बिताना अच्‍छा लगता है।

ये हर चीज को जानने की जिज्ञासा रखते हैं और जीवन में नीचे से ऊपर तक पहुंचना चाहते हैं। ये अधिक हंसी-मजाक व छिछोरापन पसंद नहीं करते। अपना काम ठीक समय पर तो करते हैं, लेकिन कई बार दुविधा में रहते हैं। अंक 3, 4 व 5 वालों से इनकी अच्‍छी बनती है।
 
शुभ रंग- सुनहरा, शुभ तिथि- 3 व 6।
 

अंक 8
 
इस अंक के जातक सहनशील व छल-कपट से दूर रहते हैं। रहस्यमय व आश्चर्यजनक बातों, कार्यों व चीजों में इनकी अधिक दिलचस्पी होती है। ये एकाकी पसंद होते हैं व मन की बात मन में ही रखते हैं। ये दुबले-पतले, मगर आकर्षक व्यक्तित्व के होते हैं। इनका व्यवहार व जीवन रहस्यमय होता है। ये लोगों पर प्रभाव बनाए रखने में सक्षम होते हैं।

ये एकसाथ कई योजनाएं बना सकते हैं व उन पर काम भी कर सकते हैं। ये खेल, इंजीनियरिंग, पुलिस सेवा, सेना, ज्योतिष, तांत्रिक, वैज्ञानिक, गायक व जेलर होते हैं। कोयला, लोहा व खदान से संबंधित कार्य में ये ज्यादा सफल रहते हैं। अंक 8 व 4 वालों से इनका विचित्र लगाव देखा गया है।
 
शुभ रंग- लाल, शुभ तिथि- 4 व 27।
अंक 9
 
इस अंक के जातक नवीन विचारों को मानने वाले होते हैं। ये एकसाथ क्रोधी व हंसमुख दोनों ही प्रकृति के होते हैं। इनमें दया व संघर्ष की अद्भुत क्षमता होती है। मिश्रित गुण वाले ये लोग अपनी हिम्मत से जीवन के दुखों को सहकर अपने उद्देश्य में सफल होते हैं।

रचनात्मक कार्यों जैसे अभिनय, लेखन आदि के अलावा ये पुलिस, सेना आदि में भी अपने व्यक्तित्व का सफल परिचय देते हैं। पारिवारिक जीवन सामान्य होता है। अंक 1 व 3 वालों से इनकी अधिक बनती है।
 
शुभ रंग- संतरी, शुभ तिथि- 5 व 9।
बुद्धिमान संतान पाने के लिए कीजिए यह व्रत
जानिए शनि के अशुभ प्रभाव को कम कैसे करें..

Check Also

माता सीता ने भी किया था एक घोर पाप, यकीन नहीं कर पाएंगे आप

भगवान श्री राम विष्णु जी का एक अवतार थे। भगवान को नारद जी ने उनके …