मंदिर जहां हुआ शिव-पार्वती जी का विवाह: रुद्रप्रयाग

‘त्रियुगी नारायण’ एक पवित्र जगह है, माना जाता है कि सतयुग में जब भगवान शिव ने माता पार्वती से विवाह किया था तब यह ‘हिमवत’ की राजधानी था. इस जगह पर आज भी हर साल देश भर से लोग संतान प्राप्ति के लिए इकट्ठा होते हैं और हर साल सितंबर महीने में बावन द्वादशी के दिन यहां पर मेले का आयोजन किया जाता है.

आशापुरा को कच्छ की कुलदेवी माना जाता है और बड़ी तादाद में इलाके के लोगों की उनमें आस्था है.
जवानों के लिए आस्था का केंद्र है बनासकांठा के नाडेश्वरी माता का मंदिर

Check Also

मनुष्य के लिए अन्न के दान को सबसे बड़ा दान बताया गया है: धर्म

आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियो में मनुष्य के लिए बहुत उपयोगी बातें बताई हैं। चाणक्य बहुत …